Menu Close

Kaahe Chhed Mohe Lyrics in Hindi

Kaahe Chhed Mohe Lyrics in Hindi

Kaahe Chhed Mohe Lyrics in Hindi

मालती गुन्धाय केश प्यारे घुघुवारे
मुख दामिनी-सी दमकत चाल मतवारी

ढाई श्याम रोक लई, रोक लई, रोक लई
ढाई श्याम रोक लई, और चक मुख चूम लई
सर से मोरी चुनरी गयी, गयी गयी
सर से मोरी चुनरी गयी सरक सरक सरक
सरक सरक सरक, सरक सरक सरक

काहे छेड़ छेड़ मोहे गरवा लगाई
काहे छेड़ छेड़ मोहे
नन्द को लाल ऐसो ढीठ
बरबस मोरी लाज लीन्ही, लाज लीन्ही
बिंदा शाम मानत नाही
कासे कहूँ मैं अपने जिया की सुनत नाही माई
काहे छेड़ छेड़ मोहे

दध की भरी मटकी, दध की भरी मटकी
दध की भरी मटकी, लई जात रही डगर बीच
आहट सुन, आहट सुन, आहट सुन
जियरा गयो धड़क धड़क धड़क धड़क
धड़क धड़क धड़क, धड़क धड़क धड़क
काहे छेड़ छेड़ छेड़ छेड़ मोहे

कर पकड़त चुड़ियाँ सब करकीं, करकीं, करकीं
बिंदा शाम मानत नाही.. ..

Kaahe Chhed Mohe Lyrics in Hindi

Like and Share
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Subscribe for latest updates

Loading

Beautiful Indian Women సచిన్ ఐపీఎల్‌ 2022 బెస్ట్ 11 ప్లేయర్స్